मेरे बारे में।

मै धवल भल्ला उत्तर भारत के एक साधारण और धार्मिक परिवार से हु , हमारा भल्ला परिवार उत्तर भारत के पंजाब राज्य के नकोदर से तालुक रखता है।  मेरे दादा ताया के पुत्र नकोदर में बाबा लाडी शाह भल्ला के नाम से जाने जाते है , बाबा लाडी शाह भल्ला जो बाबा मुरदशा (विद्या सागर भल्ला ) की गदि पर बैठे है जो उनके ताया जी भी थे।

अपने पूर्वजों के आशीर्वाद से और परिवार की धार्मिक प्रष्टभमी होने के कारण बचपन से ही मेरी रूचि आसधरन और रहस्य्मय विषयो में रही।

मुझे बालपन से ही अपने परिवार के बड़े व्यक्तियों के साथ बेठ कर धार्मिक ग्रन्थ पढ़ने का शौक था। और इस तरह मेरी रूचि ब्रम्हाण्ड के रहस्यों को जानने और ग्रहो की शक्तयो को जानने की और चली गई और धीरे धीरे ज्योतिष विषय की और रूचि हो गई  और फिर मेने वैदिक ज्योतिष , अंक ज्योतिष , रत्न विज्ञानं , हस्तरेखा, और वास्तु शास्त्र का विस्तार में अनुसन्धान और अध्यन किया।

मैने कुंडली भविष्यवाणियों,रत्न,वास्तु शास्त्र और अंक ज्योतिष,वर्षफल,प्रशन शास्त्र,हस्तरेखा शास्त्र और ज्योतिष की विभिन्न पर्णिलियो का गहन अध्यन किया और ज्योतिष के क्षेत्र में एक अलग पहचान बनाई और हमेशा ही अपने मार्ग में आने वाली सभी समस्याओं का समाधान अपने प्रभवि उपायो से करता रहा।

मेरा काम करने का तरीका हटकर है में किसी भी व्यक्ति को किसी भी तरा के वहम आदि में नहीं डालता।  ज्योतिष एक ऐसा विषय है जिस से आप का  जीवन अच्छा हो सकता है।

आम तौर पर में लोगो को उनकी कुण्डली से उनका परिचय करवाना पसंद करतहु क्यों कि मैने देखा है लोगो को उनकी जन्म कुण्डली के बारे में बिलकुल भी पता नहीं होता जिसका गलत उपयोग करके कुछ लोग लोगो को गुमराह कर देते है।
मै लोगो को यह बताता है कि उनकी कुण्डली किस दिशा की और जा रही है व्यक्तयों पर उनकी कुण्डली और ग्रहो का प्रभाव कैसा है या केसा रहेगा कुछ पुरानी बातो से लेकर  उस व्यक्ति के जीवन के कई पहलुओ को लोगो के सामने रख देते हूँ ।

ग्रहों की अवस्था,दशा जातक पर किशोर अवस्था में या आयु में युवा आयु में किस तरह से प्रभाव डालती है यह भी बताता देता हूँ ।

मै आप लोगो को बताना चाहता हु कि मै अपने इतने वर्षो की मेहनत से इस ज्योतिष विज्ञान की गहराइयों तक गया और ज्योतिष के प्रति समाज में चल रही गलत धारणाओं को दूर करने की कोशिश करता रहता हूँ ।

आम तौर पर में जो भी भविष्वाणी करता हूँ उसका तरीका पूरी तरह से वैज्ञानिक एवं तथ्य पर आधारित रहता है।