जन्मपत्रिका

जन्म कुंडली क्या होती है और इसका प्रभाव लोगो पर कैसे पड़ता है और क्यों पड़ता है और कब तक रहता है इसके बारे मे विस्तार से नीचे लिखा जा रहा है ।

 

जब किसी बच्चे का जन्म होता है फिर चाहे वो किसी भी धर्म या जाति मे हुआ हो उस बच्चे पर जो ग्रहों का प्रभाव होता है उस प्रभाव को जन्म कुंडली के माध्यम से भी देखा जा सकता है ।

एक बच्चे का जब जन्म होता है तब आकाश मे जो ग्रहों की स्थिति होती है, उसे उस बच्चे के जन्म के ग्रह मान लिए जाते है, उन ग्रहों की स्तिथि को जन्म तारीख , जन्म समय, जन्म स्थान, के अधार पर माना जाता है ।

व्यक्ति का जन्म किसी भी धर्म या जाति मे हो जिस समय उसका जन्म हुआ है,उस समय से लेकर उसकी मृत्यु तक सभी ग्रहो का प्रभाव उस व्यक्ति पर पड़ता है

इस बात को चाहे कोइ माने या न माने, कोइ भी पराणी चाहे वे मनुष्य है या वे पशु,कोइ भी ग्रहो के प्रभाव से बच नहीं पाता ।

और हम आपने पाठको को यह भी बता दे की हर एक सेकेंड मे पैदा हुए बच्चे पर ग्रहो का अलग अलग प्रभाव पड़ता है, कयो कि ग्रह हर पल अपनी स्थिति  को बदलते रहते है ।